रमज़ान महीने की आखिरी रात को मनाई जाती है ‘मीठी ईद’ और 70 दिन बाद बकरीद

0
78

@MHR। रमज़ान का महीना खत्म होने को है। इसके बाद मनाई जाएगी मीठी ईद, मुस्लिमों का सबसे बड़ा त्योहार ईद (Eid al-Fitr) इस बार 5 जून मनाई जाएगी। इस दिन मस्ज़िद में जाकर नमाज़ अदा की जाएगी। एक-दूसरे को गले मिल ईद की मुबारकबाद दी जाएगी। घरों में दावत का आयोजन किया जाएगा। बच्चों को ईदी दी जाएगी। घरों में स्वादिष्ट किमामी बनाई जाएगी।

कैसे मनाई जाती है मीठी ईद: इस दिन घरों में खास तौर पर किमामी सेवइयां, शीर और दूध वाली सेवइयां बनाई जाती हैं। इन्हें एक-दूसरे के घरों में बांटा जाता है। बच्चों को ईदी या तोहफे दिए जाते हैं। नए-नए कपड़े पहनें जाते हैं। वहीं, रोज़ेदार मस्जिद जाकर ईद की नमाज़ अदा करते हैं।

दो ईद: इस्लाम धर्म में दो ईद मनाई जाती है। पहली मीठी ईद जिसे रमज़ान महीने की आखिरी रात के बाद मनाया जाता है। दूसरी, रमज़ान महीने के 70 दिन बाद मनाई जाती है, इसे बकरीद कहते हैं। बकरा ईद (Bakra Eid) को कुर्रबानी की ईद माना जाता है। पहली मीठी ईद जिसे ईद उल-फितर कहा जाता है और दूसरी बकरी ईद को ईद उल-जुहा (Eid al-Adha) कहा जाता है।

रमजान की आखिरी रात के चांद को देखकर यह तय किया जाएगा कि ईद 5 जून को है या फिर 6 जून को, रमजान महीने के 30 दिनों के रोज़े के बाद जो ईद होती है उसे ईद-उल-फितर या मीठी ईद (Mithi Eid) कहते हैं। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here