गौ माता को राष्ट्रीय दर्जा दिलाने आगे आये महंत रामेश्वरदास, हिम्मत सिंह को बनाया प्रदेशाध्यक्ष

0
51

विकास पाठक@कोटा। जिस तरह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने चौबीस घंटे के अंदर नोटबंदी का कानून पूरे भारत में ला सकते हैं तो 24 घंटे के अंदर अध्यादेश लाकर केन्द्र में कानून बनाकर गौमाता का राष्ट्र माता घोषित करें। यह राजस्थान प्रदेश ही नहीं अपितु पूरे देश के जनमानस की भावना है और केन्द्र सरकार इस भावना का सम्मान कर इसे गंभीरता ले। यह बात भारतीय गौवंश एव पर्यावरण संरक्षण समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं द्वारकाधीश कुंड पीठाधीश्वर महंत रामेश्वरदास महाराज ने शुक्रवार को प्रेस क्लब कोटा में आयोजित पत्रकार वार्ता में पत्रकारों से बातचीत में कही। पत्रकार वार्ता के दौरान उन्होंने कोटा से युवा समाजसेवी हिम्मत सिंह को भारतीय गौवंश एवं पर्यावरण संरक्षण समिति का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त कर माला शाल पहना स्वागत किया ।

इस दौरान प्रेस क्लब अध्यक्ष गजेन्द्र व्यास ने भी महामंडलेश्वर रामेश्वरदास जी महाराज का माल्यार्पण कर स्वागत किया। महंत रामेश्वरदास महाराज ने कहा कि राजस्थान प्रदेश में गौरक्षा संरक्षण के जो निगम और पंचायत स्तर पर बॉयलोज बने हुए हैं, उनसे किसानों को भी जोड़ा जाए। प्राकृतिक आपदा के समय सरकार जब किसानों को मुआवजा देती है, उसमें एक नियम जोड़ा जाए जिसमें खेत में फसल काटने के बाद आग लगाने पर किसानों को मुआवजा नहीं दिया जाए, उन्होंने कहा कि आग लगाने से खेत की मिट्टी की उपजाऊ क्षमता नष्ट हो जाती है। सरकार की तरफ से इस तरह के आदेश तुरंत लागू किये जाएं। इसके लिए हर ग्रामीण क्षेत्र से पांच प्रतिष्ठित व्यक्तियों की कमेटी बनाई जाए, जिसके संरक्षण व संवर्द्धन पूर्ण रूप से ग्रामीण और शासन प्रशासन मिलकर करेगा तो राजस्थान के अंदर गौमाता सडक़ पर नहीं घूमेगी वह गांवों में ही रहेगी। जितने भी बूचडख़ाने में चल रहे हैं, वो तत्काल प्रभाव से बंद होने चाहिए। गौहत्यारों व कसाईयो को फांसी की सजा दी जाए।

जो हिन्दू गौ तस्करी में पाया जाएगा उसे भी वही सजा दी जाए । उन्होंने कहा कि गौमाता के नाम पर देशभर में एनजीओ के नाम पर सरकार से लाखों रूपये अनुदान लेकर कागजो में कुछ गौशालाएं संचालित की जा रही है, ऐसी संस्थाओं की जांच कर तुंरत उनके संस्थान को निरस्त करना चाहिए। लाखों रुपए सरकार की ओर से अनुदान दिया जाता हैं, लेकिन उनकी धरातल पर स्थिति बेहद खराब है। भारतीय गौवंश एवं पर्यावरण संरक्षण समिति के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष हिम्मत सिंह ने कहा कि प्रदेश में सरकार शीघ्र भैंस के दूध की फेट की कीमत से ज्यादा गाय के दूध की फेट की कीमत कर दे तो किसान एवं गो पालक गौ संवर्धन अधिक करने लग जाएंगे। सरकार भारतीय गो वंश के द्वारा गोबर से बनी खाद एवं गो मूत्र से बनी दवा को खेती में उपयोग लेना किसानों के लिए अनिवार्य कर दे तो सभी बीमारियों से छुटकारा एवं प्रत्येक इंसान की उम्र में निश्चित रूप से बढ़ोतरी होगी एवं सम्पूर्ण राष्ट्र खुशहाल एवं समृद्ध बनेगा।

कोटा की गौशाला का भी निरीक्षण किया महंत रामेश्वरदास महाराज ने यहां कोटा में नगर निगम की गौशालाओं का निरीक्षण भी किया एवं नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष हिम्मत सिंह को सम्पूर्ण राजस्थान के गोशालाओं की जानकारियां जुटाकर संबंधित राजस्थान गौपालन मंत्री प्रमोद भाया एवं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को अव्यवस्थाओं को शीघ्र सुधारने के लिए सुझाव के साथ प्रस्ताव देकर केंद्र सरकार तक के संज्ञान में लाने के निर्देश दिये ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here