राजस्थान की हर पंचायत समिति में 50-50 सड़क सुरक्षा अग्रदूत तैयार किए जाएंगे

0
72

प्रतीक जोशी@MHR। सड़क दुर्घटनाओं के मामले में राजस्थान का रिकाॅर्ड बहुत अच्छा नहीं है। राजस्थान सरकार की सड़क सुरक्षा सम्बन्धी वेबसाइट के आंकडों के अनुसार राजस्थान में हर रोज औसतन 61 दुर्घटनाएं हो रही है और इनमें औसतन 28 लोगों की रोज मौत हो रही है। ये ज्यादातर दुर्घटनाएं राष्ट्रीय और राज्य हाइवे के आस-पास होती है। समय पर सहायता नहीं मिलने के कारण बहुत से लोग अपनी जान गंवा देते है। इसी को देखते हुए राजस्थान सरकार के परिवहन विभाग ने यह नया प्रयोग शुरू किया है।

राजस्थान में सड़क सुरक्षा के लिए हर पंचायत समिति में 50-50 सड़क सुरक्षा अग्रदूत तैयार किए जाएंगे। ये अग्रदूत सड़क सुरक्षा के क्षेत्र में स्वयंसेवक की तरह काम करेंगे। राजस्थान में यह अपनी तरह का पहला प्रयोग होगा। राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने बताया कि सड़क सुरक्षा के क्षेत्र में स्वयंसेवक के तौर पर काम करने के लिए विभाग प्रदेश भर में करीब 15 हजार अग्रदूतों को प्रशिक्षण दिलाएगा। इन्हें विशेष मोनोग्राम के साथ हैलमेट दिए जाएंगे। इनको परिवहन विभाग और एनजीओ के माध्यम से सड़क सुरक्षा का प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here