प्रधानमंत्री बनाने के बाद पहले दौरे पर नरेंद्र मोदी पहुंचे मालदीव

0
39

अपने कार्यकाल की दूसरी पारी की शुरुआत के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने पहले दौरे पर मालदीव पहुंचे। उनकी यह यात्रा भारत की ‘पड़ोसी पहले’ की नीति को दी जा रही महत्ता को दर्शाती है। जहा उनका स्वागत  विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद ने स्वागत किया। इस यात्रा का मकसद हिंद महासागर द्वीपसमूह के साथ संबंधों को और मजबूत करना है. प्रधानमंत्री मोदी को मालदीव द्वारा अपने सर्वोच्च सम्मान ‘रूल ऑफ निशान इज्जुद्दीन’ से सम्मानित किया जाएगा। विदेश मंत्री शाहिद ने मोदी की यात्रा के मद्देनजर टि्वटर पर कहा कि ‘रूल ऑफ निशान इज्जुद्दीन’ मालदीव का सर्वोच्च सम्मान है, जिसे विदेशी हस्तियों को दिया जाता है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मालदीव को उसके विकास में मदद करने और उसकी अर्थव्यवस्था को फिर से खड़ा करने के लिए विकास परियोजनाओं के लिए बजटीय समर्थन, जल आपूर्ति और सीवरेज जैसी परियोजनाओं के लिए ऋण सुविधा देने, सामुदायिक विकास परियोजनाएं समेत कई समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए जाने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि लोगों के बीच आपसी संपर्क को बढ़ाने के लिए मोदी का नया जोर द्वीपीय देश में क्रिकेट कूटनीति पर है। राष्ट्रपति सालेह को क्रिकेट को आगे बढ़ाने के मिशन में मदद दी जाएगी।

सूत्रों ने बताया कि संपर्क बढ़ाने के लिए भारत कोच्चि से मालदीव के बीच नौका सेवा शुरू करने की योजना बना रहा है। उन्होंने बताया कि दोनों नेता दो रक्षा से जुड़ी परियोजनाओं का भी संयुक्त रूप से उद्घाटन करेंगे। मोदी का विदेश मंत्री शाहिद और पूर्व राष्ट्रपति मौमून अब्दुल गयूम के साथ अलग-अलग वार्ता करने की संभावना है। भारत और मालदीव के बीच संबंध तब बिगड़ गए थे जब पिछले साल पांच फरवरी को तत्कालीन राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन ने आपातकाल लागू किया था। हालांकि, सालेह के नेतृत्व में संबंध फिर से सामान्य हो गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here