वैलेंटाइन डे मनाये जाने के पीछे ये है असली कहानी

0
187

कोटा: मोहब्बत का दिन वैलेंटाइन हर एक कपल के लिए बहुत ख़ास होता है| इस दिन आप अपने प्यार का इजहार करते है और जो लोग पहले से प्यार में है वो अपने रिश्ते को और मजबूत बनाने का वादा करते है| लेकिन क्या आपने कभी सोचा है की ये क्यों मनाया जाता है| नहीं पता तो हम बता देते हैं-

ये है वजह– वैलेंटाइन कोई ऐसा त्यौहार नहीं है है जो किसी धार्मिक आस्था के नाम पर मनाया जाता है बल्कि इसे एक संत के नाम पर शुरू किया गया था जिसका नाम था “संत वैलेंटाइन”| एक किताब है “आरिया ऑफ़ जेकोबस डी वारजिन” जिसमे इनका जिक्र है| इसमें कहा गया है की यह रोम देश के एक पादरी संत थे| यह प्रेम को बहुत अधिक महत्व देते थे और लोगो को प्रेम करना सिखाते थे| उस समय रोम का राजा हुआ करता था “क्लाउडियस” जो की एक खूंखार राजा था| अचानक से उसे पता चला की लोग पारिवारिक जीवन में इतने व्यस्त हो गए है की सेना में भर्ती नहीं होना चाहते है| उन्हें देश की सुरक्षा से कोई मतलब नहीं है| इसका सबसे बड़ा कारण निकलकर आया की लोग शादी करके सुखी जीवन बिताने में भरोसा करते है| इस समस्या को खत्म करने के लिए इस राजा ने अपने देश में हुक्म जारी किया की अब आज से कोई शादी व्याह नहीं होगे| ये बात है सन 269 की जब दुनिया में इतने इन्वेंशन नहीं हुए थे| राजा की इस घोषणा से देश में अफरा तफरी का माहौल बन गया| जबरन लोग सेना में भर्ती करवाए जाने लगे और लोगो को पीटा जाने लगा| इसके बाद संत वैलेंटाइन ने इसका विरोध किया और उन्होंने कई सारे सैनिको की शादी करवाई| आम जनो को ये सिखाया की तुम्हे प्यार करने, शादी करने और अपने परिवार के साथ रहें का पूरा हक़ है| ऐसा करने से तुम्हे कोई नहीं रोक सकता है| संत ने लगातार लोगो में प्यार की भावना फैलाने वाले काम करने शुरू कर दिए| आखिर में एक दिन ये बात राजा को पता चली तो उसने वैलेंटाइन को जेल में डाल दिया और वही वैलेंटाइन को फांसी दे दी गई|

इसके बाद से लगातार उनकी याद में ये दिन मनाया जाता है| जिस दिन उन्हें फांसी दी गई वो भी 14 फरवरी का दिन ही था इसीलिए इसी दिन को चुना गया| इसके बाद बहुत अधिक संख्या में लोग इसी दिन शादी करने लगे और इसे मोहब्बत का दिन मान लिया गया|

तो इसीलिए आज के दिन को मोहब्बत का नाम दिया गया| वैसे आज लोग खूब पैसा खर्च करने में भरोसा करते है| महगे महगे स्थानों में जाना और फिर अपने प्यार का इजाहर करना ऐसा होता है| जबकि ये वैलेंटाइन नहीं है| इस दिन आप बस अपने चेहते इन्सान से एक वादा कर लीजिए की आप हमेशा उसके साथ रहेगे और हमेशा हर कदम पर साथ देंगे| बस यही है वैलेंटाईन|

“तो हमारी तरफ से भी शुभकामनाएं”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here