विश्व योग दिवस: अयंगर के सिखाए इस आसन को करने से मुझे क्रिकेट करियर में बहुत मदद मिली: सचिन तेंदुलकर

0
42

नई दिल्ली@MHR। क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर भी बीकेएस अयंगर को बहुत मानते हैं। अयंगर वो शख्स हैं जिन्होंने इस प्राचीन अभ्यास को पश्चिमी देशों तक पहुंचाया। बीकेएस अयंगर की साल 2014 में 95 साल की उम्र में मृत्यु हो गई थी। सचिन का मानना है कि बीकेएस अयंगर के आसनों का अभ्यास करने से उनको अपने शानदार करियर में काफी मदद मिली। गुरुजी के साथ मेरी पहली बातचीत साल 1999 में हुई थी, जब किरण मोरे ने मुझे पीठ के दर्द के लिए उनसे मिलवाया जो मुझे बहुत तकलीफ दे रहा था। उनके शांत, हल्के दिल के दृष्टिकोण ने मुझे काफी प्रभावित किया और मैंने गुरुजी की देखरेख में एक सप्ताह बिताया। उन्होंने मुझे जो आसन सिखाए उसके लिए मैं उनका तहे दिल से आभारी हूं। सचिन ने कहा, इन आसन को करने से मुझे क्रिकेट करियर में बहुत मदद मिली।

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई सलामी बल्लेबाज जस्टिन लैंगर ने 2004 में भारत दौरे के समय योग अभ्यास किया था। वह उस वक्त पूणे में स्थित अयंगर योग संस्थान गए थे। वहां लैंगर ने आयंगर के साथ काफी समय बिताया। आयंगर ने उनकी कमजोरी को पहचाना और उन्हें पीठ के निचले हिस्से और कंधे की समस्याओं में मदद की। जिसके बाद लैंगर ने बताया था कि उनका अनुभव असाधारण था, आयंगर उनके लिए एक प्रेरणा बन गए थे। उन्होंने फिटनस में जो मदद की उससे वह काफी प्रभावित हूए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here